बवासीर से छुटकारा, घरेलू नुस्खों द्वारा !! “Beat Piles Naturally” Home Remedies for Piles in Hindi

Home Remedies for Piles in Hindi

बवासीर बहुत ही बुरी और दर्दनाक बीमारी है, यह किसी को भी हो सकती है। वैसे तो हर उम्र के लोग इस रोग से ग्रस्त हो सकते हैं, लेकिन यह ज्यादातर 30 से 50 साल वाले आयु वर्ग में पायी जाती है। यदि आप भी इससे परेशान हैं और दर्द के साथ जी कर थक चुके हैं? तो आपके लिए अच्छी खबर यह है कि इसे अक्सर प्राकृतिक उपचारों के साथ घर पर जल्दी से ठीक किया जा सकता है। तो, बवासीर के लिए घरेलू नुस्खों ( Home Remedies for Piles in Hindi ) को अपनाए।

Table of Contents

बवासीर के लक्षण। Symptoms of piles

  • गुदा वाले हिस्से में खुजली।
  • गुदा वाले हिस्से में दर्द, खासकर लंबे समय तक बैठे रहने पर।
  • आपके गुदा वाले हिस्से के पास एक या ज़्यादा सख्त, कोमल गांठ।
  • आपके मलाशय से खून आना।
  • मल त्याग करते समय दर्द  या परेशानी।

बवासीर होने के कारण। Common Reasons of Piles

बवासीर के सही कारण अभी भी मालूम नहीं हैं। यह पता लगाना मुश्किल है कि बवासीर के मुख्य कारण क्या हैं , लेकिन कई कारक हैं जो बवासीर में योगदान कर सकते हैं।

  • पोषण संबंधी कारक के कारण
  • मल का नियमित रूप से त्याग ना करने के कारण
  • नियमित व्यायाम ना करने के कारण
  • लंबे समय तक तनाव या गर्भावस्था रहने के कारण
  • आनुवंशिकी/जेनेटिक्स
  • हेमरॉइडल वेन्स में खराब वाल्व होना
  • देर तक बैठे रहना
  • मोटापे के कारण
  • पालथी मारकर बैठने से भी बवासीर होने की संभावना बढ़ सकती है

बवासीर के लिए घरेलू नुस्खे। Home Remedies for Piles in Hindi

यहां कुछ घरेलू नुस्खे दिए गए हैं जो आपको बवासीर से स्वाभाविक रूप से छुटकारा पाने में मददगार साबित हो सकते हैं।

1. सेब का सिरका (Apple Cider Vinegar)

सेब का सिरका कसैले गुणों के कारण, सूजी रक्त वाहिकाओं के सिकुड़ने में मदद करता है और आंतरिक और बाह्य दोनों बवासीरों की सूजन और जलन से राहत देता है बाहरी बवासीर के लिए, प्रभावित क्षेत्र के खिलाफ सेब के सिरके में भिगोकर एक रूई की गेंद को धीरे से दबाएं। शुरू में एक चुभने वाली सनसनी होगी, लेकिन जल्द ही आपको खुजली और जलन से राहत मिलेगी। आंतरिक बवासीर के लिए, एक गिलास पानी में सेब के सिरके का एक चम्मच जोड़ इसे कम से कम दो बार रोजाना पीना।

2. एलोवेरा (Aloe Vera)

एलोवेरा के शोथ रोधक और चिकित्सीय गुणों से बवासीर की जलन कम हो सकती है। एलोवेरा दोनों आंतरिक और बाहरी बवासीर के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है। बाहरी बवासीर के उपचार के लिए, अपने गुदा पर एलोवेरा जेल थोड़ा सा लागू करें और धीरे-धीरे इस क्षेत्र को मालिश करें। आंतरिक बवासीर का इलाज करने के लिए, एलोवेरा पत्तियों को पट्टियों में काट लें। एक कंटेनर में इन पट्टियों को रखें और उन्हें फ्रीज करें। दर्दनाक हेमोराहॉइड पर बर्फीले ठंडे एलोवेरा पट्टी को लागू करें, दर्द, जलने और खुजली की उत्तेजना को कम करने के लिए।

3. नींबू का रस (Lemon Juice)

नींबू में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट इस स्थिति का इलाज करने में मदद करते हैं। सूजन क्षेत्र पर सीधे इसे लागू करें या अदरक और शहद के साथ नींबू के रस का उपभोग करें।

4. कोल्ड संपीड़न (Cold Compression)

बर्फ सबसे महत्वपूर्ण उपचार है। बर्फ से रक्त वाहिकाओं को कसने में मदद मिलेगी, सूजन कम हो जाएगी और आपको तत्काल दर्द से राहत मिलेगी। एक साफ कपड़े में कुछ बर्फ लपेटें और बवासीर पर सीधे इसे लागू करें। जब तक बवासीर दूर न हो जाए, यह दिन में कई बार करें।

5. जैतून का तेल (Olive Oil)

जैतून के तेल में शोथ रोधक और एंटीऑक्सीडेंट गुण है और मुख्य रूप से बाहरी बवासीर का इलाज करने के लिए उपयोग किया जाता है। यह रक्त वाहिकाओं के लोच को बढ़ाने में मदद करेगा, जो बदले में सूजन को कम करने और गुदा नहर में सूजन वाले रक्त वाहिकाओं के आकार को कम करने में सहायता करेगा।

6. सिटज़ बाथ (Sitz Bath)

अपने गुदा क्षेत्र को सादे गर्म पानी में 10 से 15 मिनट दिन में दो से तीन बार सोखें। गर्म पानी से नहाना, बवासीर के कारण होने वाली जलन को शांत करने में मदद कर सकता है। सिटज़ बाथ इस्तेमाल करने का प्रयास करें। सिट्ज़ बाथ एक ऐसी विधि है जिसमें एक छोटे प्लास्टिक के टब का उपयोग किया जाता है जो टॉयलेट सीट पर फिट हो जाता है ताकि आप प्रभावित हिस्से को बस उसमें डुबो सकें। इस पानी में बीटाडीन का घोल या डॉक्टर द्वारा सुझाए गए अन्य एंटीसेप्टिक घोल का उपयोग किया जा सकता है।

7. साबुत अनाज (Whole Grains)

साबुत अनाज उत्पादों में फाइबर की एक अच्छी मात्रा होती है, जो बवासीर के लक्षणों और रक्तस्राव से राहत में अत्यधिक प्रभावी होती है। फाइबर युक्त खाद्य पदार्थ मल को नरम कर सकते हैं और अपने बल्क में वृद्धि कर सकते हैं, जो बॉविल मूवमेंट के दौरान तनाव को कम करने में मदद करता है।

8. जलायोजन (Hydration)

आंतरिक या बाहरी बवासीर से पीड़ित होने पर, अपने पानी का सेवन बढ़ाएं। प्रति दिन आठ से 10 गिलास पानी पीने की कोशिश करें। पर्याप्त मात्रा में पानी का सेवन आपकी आंतरिक प्रणाली को शुद्ध करने और आपके पूरे शरीर को हाइड्रेट करने में मदद करता है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top
मुंह में छाले के उपाय | Home Remedies for Mouth Ulcers in Hindi सुबह की सैर के अविश्वसनीय स्वास्थ्य लाभ। Incredible health benefits of morning walk बवासीर से छुटकारा, घरेलू नुस्खों द्वारा !! “Beat Piles Naturally” Home Remedies for Piles in Hindi योगासन के फायदे | Benefits of Yoga in Hindi भारत में सिंगल पेरेंटिंग का एक मार्गदर्शन। An Effective Guidance of Single Parenting in India” पेट की परेशानी? दस्त के लिए इन घरेलू नुस्खों को आज़माएँ। Try These Home Remedies for Loose Motion मुँहासों को प्राकृतिक रूप से मिटाएँ | Home Remedies for Acne Scars पेट की जलन से छुटकारा, घरेलु नुस्खों द्वारा !! “Beat Acidity Naturally” Home Remedies for Acidity You Need to Try Now! गर्भावस्था के दौरान सूखी खांसी के लिए घरेलू उपचार। Home Remedies for Dry Cough During Pregnancy सर्दी खांसी और ज़ुकाम के लिए प्रभावशाली और आसान घरेलु नुस्खे। Home remedies for cough and cold